मशरूम की खेती घर पर कैसे करें – Mushroom farming in hindi

Mushroom farming in hindi– हर एक किसान चाहता है कि वह अपनी खेती से ही अधिक से अधिक मुनाफा कमाए जिसके कारण वह अपने परिवार की अर्थ व्यवस्था को अच्छी तरीके से सुधार सके परंतु ऐसा पारंपरिक कृषि में संभव नहीं हो पता है इसके लिए आज हम आपको एक ऐसी खेती के बारे में बताना चाहते हैं जा रहे हैं जिसको आप अपने घर से ही शुरू कर सकते हैं तथा इसको आप बड़े पैमाने पर भी कर सकते हैं |

आज आप जानने वाले हैं कि मशरूम की खेती (Mushroom farming in hindi) घर पर कैसे की जाती है तथा इसके अपने घर पर ही कैसे करे करें |

इसे भी पढ़ें- Macadamia Nuts ki Kheti- मेकाडामिया नट्स की खेती से 50 लाख प्रति एकड़ का मुनाफा

Table of Contents

मशरूम क्या है ?

Mushroom farming in hindi– हर एक किसान चाहता है कि वह अपनी खेती से ही अधिक से अधिक मुनाफा कमाए जिसके कारण वह अपने परिवार की अर्थ व्यवस्था को अच्छी तरीके से सुधार सके परंतु ऐसा पारंपरिक कृषि में संभव नहीं हो पता है इसके लिए आज हम आपको एक ऐसी खेती के बारे में बताना चाहते हैं जा रहे हैं जिसको आप अपने घर से ही शुरू कर सकते हैं तथा इसको आप बड़े पैमाने पर भी कर सकते हैं |

आज आप जानने वाले हैं कि मशरूम की खेती घर पर कैसे की जाती है तथा इसके अपने घर पर ही कैसे करे करें |

मशरूम क्या है ?

Mushroom farming in hindi– मशरूम एक प्रकार का कवक (Fungus) होता है जिसे भारत के कई राज्यों में कुकुरमुत्ता के नाम से भी जाना जाता है तथा इसको कुछ छत्रक’, ‘खुम्ब’ या ‘खुम्भी’ ‘सुक्कर’ ‘भुुुछत्र’ ‘भुछत्री आदि नामों से भी जानते हैं इसे छत्तीसगढ़ में  फुटु और पिहिरी के नाम से भी जाना जाता है |

Mushroom farming in hindi- मशरूम का इस्तेमाल आज के समय में बहुत बड़ी तौर पर खाद्य पदार्थ के रूप में प्रयोग किया जाता है इसको सब्जी अचार पकोड़े जैसी चीजों में बनाने में भारतीय रसोइयों में इस्तेमाल किया जा रहा है | मशरूम का प्रयोग इस समय कारखाने में भी बड़े तौर पर किया जा रहा है इससे कारखाने में नूडल्स, ब्रेड, जैम, खीर कुकीज, सेव बिस्किट, जिम का सप्लीमेंट पाउडर, सूप, पापड़, सॉस, टोस्ट, चकली, आदि बनाया जा रहा है |

मशरूम की खेती (Mushroom farming in hindi) हमारे देश में हरियाणा उत्तर प्रदेश उत्तराखंड कर्नाटक पंजाब हिमाचल प्रदेश तेलंगाना महाराष्ट्र आदि राज्यों में बहुत बड़े तौर पर किया जा रहा है | इतने बड़े तौर पर इसकी खेती करने का कारण है इसकी भारी मात्रा में डिमांड जो कि हमेशा मार्केट में बनी रहती है | इसको डिमांड भारत में पूरे 12 महीने बनी रहती है |

मशरूम के औषधीय गुण

मशरूम औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं और विभिन्न प्रकार के मशरूम में अलग-अलग प्रकार के औषधीय गुण पाए जाते हैं। यहां कुछ मुख्य औषधीय गुण हैं जो मशरूम में पाए जाते हैं:

  1. प्रोटीन: मशरूम में प्रोटीन की अच्छी मात्रा पाई जाती है, जो शारीरिक मांसपेशियों की बदौलत काम कर सकती है और मांसाहारी आहार की तरह उपयोग की जा सकती है।
  2. विटामिन D: कुछ मशरूम, जैसे कि धूप में सुखाए जाने वाले शियतेके मशरूम, विटामिन D के स्रोत के रूप में काम कर सकते हैं, जो हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण होता है।
  3. विटामिन B: मशरूम विटामिन B2 (रिबोफ्लेविन), विटामिन B3 (नियासिन), और विटामिन B5 (पैंथेनिक एसिड) का अच्छा स्रोत हो सकते हैं।
  4. एंटीऑक्सीडेंट्स: कुछ मशरूम एंटीऑक्सीडेंट्स, जैसे कि सेलेनियम और विटामिन सी, की अच्छी मात्रा में प्रदान कर सकते हैं, जो रक्तचाप को नियंत्रित करने और कैंसर के खिलाफ रक्षा करने में मदद कर सकते हैं।
  5. कैंसर के खिलाफ गुण: कुछ अध्ययनों के अनुसार, मशरूम में मौजूद विशेष यूनिक और पॉलिफेनोलिक यूनिट्स जैसे अच्छे गुण हो सकते हैं, जो कैंसर के खिलाफ लड़ने में मदद कर सकते हैं।
  6. इम्यून स्वास्थ्य: मशरूम में बेटा-ग्लूकन्स, जो एक प्रकार की पोलिसैक्चराइड होती है, हो सकती है, जो आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में मदद कर सकती है।
  7. कैल्शियम: कुछ मशरूम कैल्शियम का अच्छा स्रोत हो सकते हैं, जो हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण होता है।
  8. फाइबर: मशरूम में फाइबर की मात्रा भी होती है, जो पाचन को सुधारने में मदद कर सकती है।

मशरूम की औषधीय गुणों का स्तर मशरूम के प्रकार और वैराइटी पर भी निर्भर करता है, इसलिए आपके द्वारा चुने गए मशरूम के प्रकार पर निर्भर करेगा कि आपको कौन से औषधीय गुण मिलेंगे।

मशरूम का उपयोग

Mushroom farming in hindi- मशरूम का उपयोग खाद्य औषधीय उद्देश्यों के लिए किया जाता है, और इसके कई प्रकार होते हैं जो खासतर से भोजन और स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं | मशरूम का उपयोग आज के समय में फैक्ट्रियों में खाद्य सामग्री बनाने में भी किया जा रहा है | मशरूम भोजन में एक महत्वपूर्ण और स्वादिष्ट सामग्री के रूप में प्रयोग किए जाते हैं।

कुछ मशरूम औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं और इन्हें दवाओं के रूप में प्रयोग किया जाता है। उनमें से कुछ मशरूम कैंसर, हड्डियों के स्वास्थ्य, इम्यून सिस्टम को मजबूत करने, और रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करने के लिए जाने जाते हैं

मशरूम अन्य भोजन में स्वाद और विशेषता डालने के लिए उपयोग किए जाते हैं। वे सलाद, पिज्जा, स्टरी-फ्राय्ड और ग्रिल्ड व्यंजनों का स्वाद बढ़ाने में आज के समय में बहुत ज्यादा उपयोग किये जा रहे हैं |

मशरूम की मुख्य प्रजाति

Mushroom farming in hindi- वैज्ञानिकों के अनुसार पृथ्वी पर मशरूम की लगभग 1000 प्रजातियां पाई जाती हैं लेकिन अगर मच्छरों को व्यापारिक तौर पर देखा जाए तो चमकी लगभग पांच प्रजातियां है पूरे 1000 प्रजातियों में सिर्फ पांच प्रजातियां हैं सर्वश्रेष्ठ मानी जाती हैं जो जो जिनका नाम है बटन मशरूम, पैडी स्ट्रॉ, स्पेशली मशरूम, दवाओं वाली मशरूम, धिंगरी या ओएस्टर मशरूम हैं | इनमें से बटन मशरूम सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली प्रजाति है कभी-कभी इसको मिल मिलकर मशरूम भी कहा जाता है |

Mushroom farming in hindi

मशरूम की प्रजातियाँ भिन्न-भिन्न रंगों, आकारों, और रसायनिक संरचना में होती हैं, जो उनके उपयोग और स्वाद के आधार पर भिन्नता पैदा करते हैं। यहाँ तक कि कुछ मशरूम स्वास्थ्य लाभ के लिए प्रसिद्ध होते हैं, जैसे कि शियतेके (Shiitake) और मैताके (Maitake) मशरूम, जो आपके इम्यून सिस्टम को सुदृढ़ करने में मदद कर सकते हैं।

मशरूम के बीज को कैसे प्राप्त करें

मशरूम की खेती (Mushroom farming in hindi) करने के लिए आपको सर्वप्रथम मशरूम के बीज को खरीदना ही पड़ेगा | इसके लिए आप अपने नजदीकी सरकारी कृषि केंद्र की मदद से भी मशरूम के बीच को प्राप्त कर सकते हैं या फिर आप बहुत से ऑनलाइन एप के द्वारा भी मशरूम के बीज को खरीद सकते हैं ऑनलाइन खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें |

बीज की कीमत

mushroom seeds

मशरूम के बीज की कीमत लगभग 75 रुपए प्रति किलोग्राम होती है जो कि ब्रांड और किस्म के अनुसार घट बढ़ सकती है इसलिए आपको सुनिश्चित करना होगा कि आप कौन से किस्म का मशरूम को गाना चाहते हैं और मशरूम के बीज को खरीदते समय किसी विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें इससे आपको मशरूम की खेती करने में अधिक मुनाफा होगा तथा नुकसान का सामना नहीं करना पड़ेगा

मशरूम की खेती घर पर कैसे करें –(Mushroom farming in hindi)

Mushroom farming in hindi- अगर आप मशरूम की खेती करना चाहते हैं तो आप इसे घर पर कर के भी लाखों रुपए कमा सकते हैं इसके लिए आपको एक कमरे की जरूरत होगी अगर आप चाहे तो लड़कियों का जाल बनाकर भी उसे उसके नीचे मशरूम की खेती प्रारंभ कर सकते हैं मशरूम की खेती के बारे में नीचे कई चरणों में विस्तारित किया गया है –

Mushroom farming in hindi
पहला चरण- कम्पोस्ट कैसे तैयार करें

Mushroom farming in hindi- मशरूम की खेती करने के लिए जैविक खाद की आवश्यकता होती है जिसके लिए आप गेहूं धान के भूसे का उपयोग कर सकते हैं इसके लिए आपको भूसे को पूरी ताराग से कीटाणुओं से रहित बनाना होता है | जिससे इसमें मौजूद कीटाणु और अशुधियां दूर हो जाए | ऐसा इसलिए करते हैं जिससे मशरूम की फसल को उगाने में कोई समस्या ना आए तथा इसके लिए पौधे की वृद्धि के लिए उसके गुणों में अवरोध उत्पन्न न हो |

आपको लगभग 1500 लीटर पानी में डेढ़ किलो ग्राम फॉर्मलीन एवं 150 ग्राम बेबिस्टीन मिलना होता है इसके लिए इसमें दोनों रसायन कीटनाशकों को एक साथ में आना होता है | इसके बाद इसमें पानी में एक कुंतल से 50 किलोग्राम गेहूं का भूसा डालकर अच्छे से भी आना होता है इसके बाद इसे कुछ समय के लिए ढककर रखना पड़ता है जिससे बाद यह मशरूम उगने के लिए एक माध्यम बनकर तैयार हो जाता है |

इसके बाद भूसे को ऐसी जगह फैलाना है जहाँ पर हवा लगे | ऐसा इसलिए करते हैं जिससे उसकी 50% नमी कम हो जाए इसके बाद आपको पूछे को बार-बार पलटना चाहिए इसके बाद यह भूसा या कंपोस्ट मशरूम की बुआई के लिए तैयार हो जाता है

दूसरा चरण- मशरूम की बुवाई के लिए कमरे को कैसे तैयार करें

Mushroom farming in hindi- मशरूम की खेती घर पर करने के लिए आपको कमरे को तैयार करना होगा जिसमें आप लकड़ी का या फिर लोहे से बने हुए आलमारी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं | मशरूम की खेती (Mushroom farming in hindi) करने के लिए ठीक उसी प्रकार से अलमारी को बनाना है जिस प्रकार से वर्टिकल फार्मिंग की जाती है |

mushroom setup
तीसरा चरण – मशरूम की बुवाई कैसे करें

Mushroom farming in hindi- कमरे को तैयार करने लेने के बाद बात आती है मशरूम की बुवाई की मशरूम की बुवाई करने के लिए के लिए आपको 16 x 18 इंच की पॉलिथीन बैग लेना है | फिर इसमे आपको पहले एक परत में भूसे को रखना है जिसकी मोटाई लगभग 3 से 4 इंच हो फिर इसमे एक परत में मशरूम को बिक्षा देना है |

मशरूम की परत बहुत पतली ही रखनी है | ऐसे ही आपको लगभग 3 से 4 परत और तैयार कर लेनी है | साथ में यह जरूर ध्यान देना है कि पोलीथिन के नीचे दो छेद अवश्य ही कर देना है जिससे उसमे से मौजूद पानी बहार निकल जाये और पोलीथिन को अच्छे से पूरी तरह से कस के बांध लेना है जिससे उसमे बिल्कुल भी हवा अन्दर बाहर न जाये |

Mushroom farming in hindi- यह प्रक्रिया ज्यादातर मिल्की मशरूम में ही की जाती है जबकि ऑरेस्टर मशरूम में मिक्स करने की तकनीक का इस्तेमाल होता है मतलब बिना परतो के मशरूम के बीज और भूसे को मिला दिया जाता है बुवाई की प्रक्रिया समाप्त हो जाने के बाद पैकेट में कुछ छोटे-छोटे छेद कर दिया है जिससे मशरूम के पौधे बाहर निकल सके |

चौथा चरण – मशरूम के थैले कैसे रखें

Mushroom farming in hindi- मशरूम की बुवाई करने के बाद बारी आती है कि मशरूम की थैली कैसे रखने की | कमरे में की खेती करने के लिए आप को थैले को रखने का तरीका पता होना चाहिए | थैले को या तो आप किसी लकड़ी की सहायता से या फिर कमरे में तैयार की गई अलमारी में रख दे या फिर किसी रस्सी की सहायता से बांधकर लटका दे फिर एक तरह से लड़ी हो या किसी धात से फलों में जंजाल तैयार करके जिस पर मशरूम के पैकेट आसानी से रख सके |

मशरूम की खेती में समय, कटाई और पैकिंग

Mushroom farming in hindi- मशरूम की खेती करने वाले विशेषज्ञों की सलाह के अनुसार मशरूम की फसल अधिकतम 30 से 40 दिनों के भीतर काटने योग्य हो जाती है उसके बाद इसके फल दिखाई देना है जिसे आप आसानी से हाथ से ही तोड़ सकते हैं और थैली में या फिर प्लास्टिक के बॉक्स में पैक कर के मार्किट में बेच सकते है | मशरूम की पैकिंग इस प्रकार से करें की उसमें से हवा बिल्कुल भी न तो पैकिंग के अन्दर आ सके और न ही जा सके | वरना मशरूम बहुत ही जल्द ख़राब हो जायेगा |

Mushroom farming in hindi

हवा का नियंत्रण

मशरूम की बुवाई करने के बाद आप जिस कमरे में मशरूम की खेती कर रहे हैं और कमरे को लगभग १५ दिन के लिए बंद कर के रखें फिर 15 दिन बाद कमरे को खुला छोड़ दें इससे मशरूम पूरी तरह से सफ़ेद दिखने लगेगा |

आर्द्रता एवं तापमान नियंत्रण

Mushroom farming in hindi- मशरूम की खेती घर पर करने के लिए कमरे का ताप के तापमान को नियंत्रित करेने की आवश्यकता होती है इसके लिए आपको समय-समय पर कमरे की दीवारों पर पानी का छिड़काव करना होता है साथ ही आपको मशरूम की खेती करते समय यह भी ध्यान दें रखना चाहिए कि मशरूम की खेती जिस कमरे में हो रही हो उसे कमरे का तापमान लगभग 70 डिग्री तक क्यों होनी चाहिए इसके बाद आपको कमर का तापमान बहुत ध्यान देना आवश्यक होता है मौसम की फसल को अच्छे से उगाने हेतु लगभग 20 से 30 डिग्री का तापमान ही ठीक रहता है |

मशरूम कहाँ बेचें

Mushroom farming in hindi– मशरूम की खेती अगर आप घर पर कर रहे हैं तो आप अपने उपयोग के लिए भी कर सकते हैं या फिर आप मशरूम का व्यापार करने के लिए भी मशरूम की खेती घर से शुरू कर सकते हैं मशरूम की मांग बहुत आज के समय में बहुत तेजी से हो रही है |

Mushroom farming in hindi- इसको बेचने के लिए उपयुक्त स्थान में होटल, दवाई वाली कंपनियां आदि इसको ज्यादा खरीदते हैं मशरूम का उपयोग ज्यादातर चाइनीज खाने में किया जाता है इसके अन्य लाभकारी को कारण मेडिकल के क्षेत्र में भी उपयोग किया जाता है इतना ही नहीं मशरूम का आज के समय बहुत बड़े तौर पर आयात और निर्यात किया जा रहा है |

मशरूम की खेती में लागत (Mushroom farming in hindi)

Mushroom farming in hindi– मशरूम की खेती के लिए कोई खास खर्च नही होती है अगर आप छोटा व्यापार शुरू करना चाहते हैं तो आप न्यूनतम १० हजार रुपये से व्यापार को शुरू करें और अगर आप बड़े तौर पर करना चाहते हैं तो आप अपने बजट के हिसाब या अपने संसाधनों के हिसाब से व्यापर में लगत लगा सकते हैं | मेरी सलाह यह रहेगी की अगर आप पहली बार मशरूम की खेती करने की सोच रहें हैं तो आप लगभग 8 से 10 थैली में ही मशरूम को उगाये |

मशरूम के व्यापार में होने वाला लाभ

Mushroom farming in hindi– मशरूम की व्यापार में पूरे विश्व में देखा जाए तो हर साल 12.9 प्रतिशत की वृद्धि हो रही है अगर आप यह करेंगे तोआपको इस व्यापार कम समय से ही अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं अगर आप 100 वर्ग मीटर में मशरूम की खेती करना है तो आपको हर साल लगभग 1 लाख से 5 लाख तक का मुनाफा मिल जाएगा | मशरूम की खेती में होने वाला लाभ मशरूम की गुणवत्ता मार्केट की कीमत के अनुसार घाट बढ़ सकती है |

मशरूम कितने दिनों में तैयार होता है ?

मशरूम को तैयार होने में 2 से 3 महीने का समय लगता है |

मशरूम की कीमत क्या है ?

मशरूम की औसतन कीमत 7 हजार से 11 हजार रुपये कुंतल होती है |

सबसे महँगा मशरूम कौन सा है ?

यूरोपियन व्हाइट ट्रफल मशरूम को दुनिया का सबसे महंगा मशरूम है जो की पेड़ों पर अपने आप ही उग जाता है |

आशा करता हूं कि आपको मशरूम की खेती Mushroom farming in hindi की जानकारी अच्छी लगी हो, फिर भी आप कमेंट में यह जानकारी कैसी लगी जरूर बताएं तथा अन्य आधुनिक कृषि की जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट पर विजित करें | धन्यवाद !